blogid : 3150 postid : 40

ये कैसी दीवाली

Posted On: 25 Oct, 2011 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

महंगाई ने किया दिवाला, ये कैसी दीवाली।

हर मुंह से छिन रहा निवाला, ये कैसी दीवाली।।

कौन खरीदे सोना चाँदी, है तबाह आबादी।

सब्जी खाने में ही अब तो, होनी है बरबादी।

जिधर देखिये उधर घोटाला, ये कैसी दीवाली।।

लक्ष्मी जी तो स्विस विराजें, कैसे होगी पूजा।

हम गणेश गोबर के बन गए, रहा उपाय न दूजा।

कर्ज बनाता है मतवाला, ये कैसी दीवाली।।

ब्रांड बन गए मार्केट सज गईं, बिगड़ रहा इंसान।

जीवन कैसे जीना होगा, ये जानें भगवान।

लुटता है हर भोला भाला, ये कैसी दीवाली।।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

ajay के द्वारा
October 31, 2011

यह उन लोगों की दिवाली है जो कहते हैं कि 32 रुपए में गुजर-बसर किया जा सकता है.


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran